अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 थीम, निबंध | International Yoga Day 2021 Theme in Hindi

Contents

योग का इतिहास

भारत देश में प्राचीन काल से ही योग की परम्परा चली रही है। हमारे देश में जब से सभ्यता शुरू हुई तब से ही योग किया जा रहा है। योग विद्या में भगवान शिव को आदि योगी या आदि गुरु मन जाता है।अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 थीम

हिमालय में कांति सरोवर झील के तट पर हजारों साल पहले आदि गुरु ने प्रसिद्ध सप्तऋषि को अपना प्रबुद्ध ज्ञान प्रदान किया तथा सप्तऋषियों ने उस योग रूपी विज्ञान का प्रसार सम्पूर्ण विश्व में किया। तथापि योग को पूर्ण अभिव्यक्ति की प्राप्ति भारत देश में ही प्राप्त हुई।अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 थीम अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 थीम

योग साधना की मौलिक बात

योग करने से हमारे शरीर, मन ,भावना और ऊर्जा के स्तर पर प्रभाव पड़ता है। इसीलिए योग को चार भागों म विभाजित किया गया है।

  1. कर्मयोग- इस योग में हम अपने शरीर का उपयोग करते हैं।
  2. भक्तियोग – इस योग में हम अपनी भावनाओं का उपयोग करते हैं।
  3. ज्ञानयोग– इस योग में हम अपने मन एवं बुद्धि का उपयोग करते हैं। 
  4. क्रियायोग– इस योग में हम अपनी ऊर्जा का उपयोग करते हैं।

सार्थक जीवन एवं जीवन यापन के लिए योग की साधना को रामबाण माना जाता है। हमें स्वस्थ जीवन जीने के लिए इन सभी प्रकार के योग को अपनी दिनचर्या में शामिल करना चाहिए।अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 थीम

अंतराष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत कब हुई

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस शुरू करने की पहल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने की। उन्होंने 27 सितम्बर 2014 को संयुक्त-राष्ट्र-महासभा में एक साथ मिलकर योग करने का आग्रह किया तथा संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 11 दिसम्बर 2014 को इस प्रस्ताव को स्वीकार किया। और अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने की शुरुआत हुई।अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 थीम

अंतराष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को ही क्यों मनाया जाता है 

योग दिवस 21 जून को इसलिए मनाते हैं क्योंकि 21 जून उत्तरी गोलार्ध का सबसे बड़ा दिन होता है जिसे ग्रीष्म संक्रांति भी कहते हैं। ग्रीष्म संक्रांति के बाद सूर्य दक्षिणायन हो जाता है औऱ सूर्य के दक्षिणायन में होने का समय आध्यात्मिक सिद्धियों को प्राप्त करने में उपयोगी होता है।अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 थीम

अंतराष्ट्रीय योग दिवस 2021

योग दिवस प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष भी 21 जून को मनाया जाएगा । हालांकि कोरोना वायरस महामारी की वजह से इसका आयोजन नही किया जाएगा। वर्ष 2020 की तरह इस वर्ष भी सभी लोग अपने घरों में योग दिवस मनाएंगे।

इस वर्ष 21 जून 2021 को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस को मानते हुए पूरे सात वर्ष हो गए हैं और सम्पूर्ण विश्व ने योग को अपनी दिनचर्या में भी शामिल किया है। यह भारत देश के लिए गर्व की बात है।अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 थीम

प्रथम योग दिवस कब मनाया गया

वर्ष 2014 में 11 दिसम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में 177 सदस्य देशों द्वारा 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने की घोषणा की गई। 21 जून 2015 को प्रथम योग दिवस मनाया गया। प्रथम योग दिवस का आयोजन आयुष मंत्रालय द्वारा 21 जून 2015 को दिल्ली में राजपथ में किया गया। इस योग दिवस पर 2 गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड भी बना।

  1. प्रधानमंत्री तथा 35985 प्रतिभागियों के साथ सबसे बड़ा योग सत्र
  2. एक ही सत्र में 84 देश के नागरिकों ने भाग लिया।

21 जून 2015 को ही विज्ञान भवन में सम्पूर्ण स्वास्थ्य के लिए योग विषय पर दो दिवसीय अंतराष्ट्रीय संगोष्ठी हुई तथा इसमें भारत के साथ 13 देश के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 थीम

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 थीम – International yoga day theme

सन योग दिवस की थीम
2021YOGA AT HOME AND YOGA WITH FAMILY घर में रहते हुए परिवार केसाथ योग करें।
YOGA FOR HEALTH- YOGA AT HOME घर में रहते हुए योग करना।
2019YOGA FOR CLIMATE ACTION पर्यावरण के लिए योग
2018YOGA FOR PEACE शान्ति के लिए योग
2017YOGA FOR HEALTH स्वास्थ्य के लिए योग
2016CONNECT THE YOUTH युवाओं को कनेक्ट करें।
2015YOGA FOR HORMONY AND PEACE सद्भाव और शान्ति के लिए योग

अंतराष्ट्रीय योग दिवस का महत्व

आज के इस बढ़ते प्रदूषण और रसायनयुक्त खाद्दान्न के की वजह से हमारे शरीर में विभिन्न प्रकार की बीमारी उत्पन्न हो रहीं हैं जिनको ठीक करने के लिए हमें बहुत सी दवाइयों का सेवन करना पड़ता है।अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 थीम

ऐसे में यदि हम योग को अपनी दिनचर्या में शामिल करें तो हमारे शरीर के लिए बहुत ही लाभदायक सिद्ध होगा। हमें अपन दिन की शुरुआत योग से करनी चाहिए। प्रातःकाल योग करने से हमारे दिमाग की सभी इंद्रिया सक्रिय होती है और व्यक्ति का मन एकाग्र होकर कार्य करता है।योग को हमें अपने जीवन में साधना की तरह करना चाहिए।

योग के फायदे 

  1. प्रतिदिन सुबह योग करने से हमारा मन प्रसन्न रहता है और हमें मानसिक शान्ति प्राप्त होती है तथा हम प्रत्येक तरह के मानसिक विकारों से दूर रहेगें।
  2. जब हम प्रतिदिन योग करते हैं तो हमारा मस्तिष्क सक्रिय रहता है और शारीरिक ऊर्जा में भी वृद्धि होती है। जिससे हम प्रत्येक कार्य को समय से समाप्त कर पाते हैं और इससे हमारा आत्मविश्वास मजबूत होता है। 
  3. बहुत सारी ऐसी बीमारियां हैं जो कभी ठीक नहीं होती है जैसे डायबिटीज। परन्तु योग औऱ प्राणायाम से हम इस बीमारी से मुक्त हो सकते हैं।
  4. आज के समय में हर इंसान मोटापे से परेशान है। ऐसे में अगर हम योग को अपने जीवन में शामिल कर लें तो हम अपना वजन भी कम कर सकते हैं।

सावधानिया

  1. अगर हम योग करने का बेहतर परिणाम चाहते हैं तो हमे योग सुबह या शाम के समय करना चाहिए।
  2. योग करते समय ध्यान दें कि आपका पेट खाली हो।
  3. योग अपनी क्षमता के हिसाब से ही करें ।

FAQ 

  1. अंतरराष्ट्रीय योग दिवस शुरू करने की पहल किसने की

    अंतरराष्ट्रीय योग दिवस शुरू करने की पहल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने की।

  2. अंतराष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत कब हुई

    भारत के प्रधानमंत्री ने 27 सितम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में एक साथ मिलकर योग करने का आग्रह किया तथा संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 11 दिसम्बर 2014 को इस प्रस्ताव को स्वीकार किया। और अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने की शुरुआत हुई।

  3. अंतराष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को ही क्यों मनाया जाता है 

    योग दिवस 21 जून को इसलिए मनाते हैं क्योंकि 21 जून उत्तरी गोलार्ध का सबसे बड़ा दिन होता है जिसे ग्रीष्म संक्रांति भी कहते हैं।

  4. प्रथम योग दिवस कब मनाया गया

    21 जून 2015 को प्रथम योग दिवस मनाया गया।

  5. 21 जून 2021 योग दिवस की थीम क्या है?

    घर में रहते हुए परिवार केसाथ योग करें, YOGA AT HOME AND YOGA WITH FAMILY ।

  6. अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2020 की थीम क्या थी?

    घर में रहते हुए योग करना, YOGA FOR HEALTH- YOGA AT HOME

  7. अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2019 की थीम क्या थी?

    पर्यावरण के लिए योग, YOGA FOR CLIMATE ACTION

  8. योग की शुरुआत कब हुई?

    भारत देश में प्राचीन काल से ही योग की परम्परा चली रही है। हमारे देश में जब से सभ्यता शुरू हुई तब से ही योग किया जा रहा है। योग विद्या में भगवान शिव को आदि योगी या आदि गुरु मन जाता है।

  9. योग का जनक कौन है?

    महर्षि पतंजलि को योग का जनक  कहा जाता है।

और भी पढ़े 

Leave a Comment